गला बैठने पर ठण्ड के मौसम में इन टिप्स से उठायें सूपर फायदा

गला बैठने पर ठण्ड के मौसम में इन टिप्स से उठायें सूपर फायदा

गला बैठने पर

जैसे जैसे मौसम में सर्दी का प्रकोप बढ़ता जाता है बहुत से लोगों को गला बैठने पर और खराश की समस्या बार बार बनने लगती है । बहुत लोगों को आदत होती है कि वो बहुत ज्यादा ठण्डा खाते हैं और इस मौसम में भी आइसक्रीम और कोल्डड्रिंक का सेवन गर्मी की तरह ही करते हैं । ऐसे लोगों के शरीर में कफ का प्रकोप बढ़ जाता है और उनको गले में भारीपन की समस्या होकर आवाज अवरुद्ध होने लगती है । इसके अलावा टॉन्सिल का होना और कुछ भी गटकने में दिक्कत पैदा होने लगती है । तो आज हम जानकारी देते हैं कुछ ऐसे उपायों के बारे में जिनको अपनाकर आप गला बैठने पर समस्या से छुटकारा पा सकते हैं और दर्द एवं सूजन से भी राहत पा सकते हैं ।

गला बैठने पर अदरक का प्रयोग :-

अदरक का प्रयोग गला बैठने और दर्द को दूर करने के लिए बहुत ही गुणकारी रहता है । अदरक के अंदर एंटीइंफ्लामेंट्री और एनल्जेसिक गुण पाये जाते हैं । दर्द और सूजन की समस्या को दूर करने के लिए और स्रोतों में कफ प्रकोप से पैदा हुए अवरोध को दूर करने के लिए अदरक का प्रयोग बहुत गुणकारी रहता है । गला बैठ जाने की समस्या हो जाने पर आप अदरक का काढ़ा बनाकर दिन भर में दो बार सेवन कर सकते हैं । इसके अतिरिक्त अदरक के छोटे छोटे टुकड़े काटकर उन पर काला नमक छिड़क कर इनको चूस चूस कर खा सकते हैं । ऐसा करने से गला भी खुल जाता है और जमा बलगम भी निकल जाता है ।


गला बैठने पर सेंधा नमक :-

गला बैठने पर गरारे करना कितना ज्यादा लाभकारी रहता है यह किसी से छिपा हुआ नही है । आमतौर पर गले में खराश होने पर, गला बैठने पर हम सब गरारे करते ही हैं लेकिन 95% लोग गरारे करने के लिए साधारण समुन्द्री नमक का प्रयोग करते हैं । लेकिन क्या आप जानते हैं कि यदि हम गला बैठने पर गरारे करने के लिए साधारण की जगह सेंधा नमक का प्रयोग करें तो यह बहुत ही ज्यादा और बेहतर विकल्प होता है । यदि बार बार गले को खिच खिच करने से गले के अन्दर चुभन पैदा हो गयी है और दर्द ज्यादा होने लगा है तो ऐसी दशा में गुनगुने गर्म पानी में चौथाई चम्मच सेंधा नमक मिलाकर दिन भर में 2-3 बार गरारे करने से आराम मिलने लगता है ।


गला बैठने पर काली मिर्च :-

काली मिर्च को सबसे अच्छा एंटी एलर्जिक माना जाता है । काली मिर्च के अंदर सूजन और संक्रमण को दूर करने की शक्ति पायी जाती है इसके अलावा कफ को पिघला कर निकालने में भी काली मिर्च बहुत ही अच्छी आयुर्वेदिक औषध के तौर पर जानी जाती है । गला बैठने पर रोगी जितना परेशान आवाज ना निकल पाने से होता है उससे ज्यादा परेशानी जोर से बोलने का प्रयास करने के कारण माँसपेशियों में सूजन आने से होती है । रही सही कसर पूरी हो जाती है कफ के बढ़ जाने से । तो इन सब दशाओं में गला बैठने पर काली मिर्च के दो दाने फोड़कर उनका चूरा बना लें और आधा अथवा एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर चाट कर खाने से आराम मिलता है । यह प्रयोग दिन में दो बार करना चाहिए ।


गला बैठने पर सावधानी :-

गला बैठने पर जितना फायदा इलाज से होता है उससे कही ज्यादा लाभ सही परहेज और सावधानी से होता है । गला बैठने पर रोगियों को ठण्डी चीजों का पूरी तरह परहेज करना चाहिये और कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम, दही, खटाई, मिर्च मसाले दार, जंक फूड, इमली, चटनी आदि जैसी चीजों का पूरी तरह परहेज करना चाहिये । खाना ताजा बना और सात्विक प्रकार का होना चाहिये । पानी भी पकाकर पीना चाहिये ।



गला बैठने पर समस्या में काम आने वाले ये नुस्खों की जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो इसको अपने फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर पर जरूर शेयर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही सही और उपयोगी जानकारी किसी जरूरतमंद तक पहुँच सकती है और हमको भी आपके लिए और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है ।

|
गला बैठने पर

गला बैठने पर ठण्ड के मौसम में इन टिप्स से उठायें सूपर फायदा जैसे जैसे मौसम में सर्दी का प्रकोप बढ़ता जाता है बहुत से लोगों को गला बैठने पर और खराश की समस्या बार बार बनने लगती है । बहुत लोगों को आदत होती है कि वो बहुत ज्यादा ठण्डा खाते हैं और इस
Read More

Please follow and like us:

|
चमेली

चमेली के दिव्य अनुभूत टोटके, धन धान्य के लग जायेंगें भण्डार चमेली के फूल और पौधे का नाम आपने जरूर सुना होगा और चमेली के तेल से भी आप भली प्रकार परिचित होंगे ही । आज बात करते हैं चमेली के पौधे, तेल से जुड़े कुछ दिव्य टोटको के बारे में जिनको अपनाकर आप बहुत
Read More

Please follow and like us:

गैस से पेट फूलने की समस्या

गैस से पेट फूलने की समस्या में ये उपाय देंगे पूरा आराम बहुत सारे लोगों को गैस से पेट फूलने की समस्या रहती है कि कुछ भी खाने के बाद अक्सर उनकए पेट में गैस बहुत ज्यादा बनने लगती है और गैस से पेट फूल जाता है । सामान्य तौर पर इस समस्या को वायु
Read More

Please follow and like us:

काली मिर्च के

काली मिर्च के 3 अनूठे लाभ, जानकर हैरान रह जायेंगें आप आज के इस आर्टिकल में हम आपको काली मिर्च के 3 फायदों के बारे में बता रहे हैं । कालीमिर्च जिसको अंग्रेजी में ब्लैक पेपर कहा जाता है, आयुर्वेदिक औषधि के रूप में और रसोई में एक मसाले के तौर पर किसी परिचय की
Read More

Please follow and like us:

इम्यूनिटी

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिये आजमाना ये तीन उपाय, सच में हैं कारगर इम्यूनिटी अर्थात रोग प्रतिरोधी शक्ति शरीर की वह ताकत होती है जिसके बल पर शरीर रोगों से लड़ता है और शरीर में होने वाले संक्रमणों को जल्दी से जल्दी खत्म करने में सक्षम होता है । जिस व्यक्ति की इम्यूनिटी जितनी मजबूत होगी
Read More

Please follow and like us:

घर पर सैनिटाइजर कैसे बनाते हैं, सीखें केवल 5 मिनट में

घर पर सैनिटाइजर बनाना बहुत आसान है स्टेप वाईस स्टेप समझें । दोस्तों सैनिटाइजर की जैसे जैसे माँग बढ़ती जा रही है वैसे वैसे मार्केट में इसकी उपलब्धता कम होती जा रही है । आज हम आपको बहुत ही अच्छा सैनिटाइजर घर पर बनाने की विधी बता रहे हैं ।

घर पर सैनिटाइजर
घर पर सैनिटाइजर

घर पर सैनिटाइजर बनाने के लिए जरूरी सामग्री :-

यह सैनिटाइजर बनाने के लिये हमको सबसे पहले चाहिये स्पिरिट या रबिंग एल्कोहल ( 100 मि०ली०) यह रबिंग एल्कोहल वही लिक्विड है जो अस्पतालों में इंजेक्शन आदि लगाने से पहले त्वचा पर लगाया जाता है । अपने आसपास किसी मैडिकल स्टोर से यह आपको बहुत आसानी से मिल जाता है । इसके अलावा आपको जरूरत पड़ेगी एलोवेरा के ताजे गूदे की लगभग 50 ग्राम । आप चाहें तो घर पर सैनिटाइजर बनाने के लिए मार्केट में उप्लब्ध पतंजली एलोवेरा जेल भी ले सकते हैं । तीसरी चीज आपको चाहिये होगी ग्लीसरीन लगभग 30 मि०ली० । आगे हम बात करेंगें इस सैनिटाइजर को बनाने की विधी के बारे में ।
तेजपत्ता खाओगे तो इतने लाभ पाओगे कि बस इसके गुण गाओगे

 

घर पर सैनिटाइजर बनाने की विधी :-

सबसे पहले एलोवेरा के गूदे को सफाई से निकालकर मिक्सी में डालकर इसको अच्छी तरह से पीस लें । आप चाहें तो इसको अण्डे की तरह हाथों से भी फेंट सकते हैं लेकिन उसमें समय बहुत ज्यादा लग जाता है और एलोवेरा का गूदा उतना बारीक जेल भी नही बन पाता है । मिक्सी में चलाना ही सर्वोत्तम उपाय होता है । फिर इस पीसे हुए जैल में 100 मि०ली० रबिंग एल्कोहल मिलाकर अच्छी तरह हिला लीजिये और सबसे आखिर में इसमें ग्लीसरीन मिलाकर रख लिजिये । आपका सैनिटाइजर तैयार है । इसमें स्पिरीट की महक आती है जो कुछ लोगों को अप्रिय लगती है । यदि आप चाहें तो घर पर सैनिटाइजर में लगभग 30 मि०ली० गुलाबजल अथवा कुछ बूँदें एशेंशियल ऑयल की मिला सकते हैं । स्प्रे बॉटल अथवा ड्रॉपर बॉटल में भर कर रख लिजिये और जरूरत के हिसाब से इसको प्रयोग कीजिये । कई महीनों तक खराब नही होता है । इसको बनाने की सम्पूर्ण विधी आप इस वीडियो के माध्यम से सीख सकते हैं ।

सैनिटाइजर बनाने का तरीका लाईव देखने के लिये इस लाईन पर क्लिक करें

Please follow and like us:

|
काले चने में शहद

काले चने में शहद मिलाकर खा लेने से ऑयरन और कैल्शियम होगा पूरा हड्डियॉ बन जायेंगी फौलाद काले चने का सेवन सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन और विटामिन के गुणों से भरपूर काले चने को भिगो कर रोजाना खाने से कई बीमारियां दूर होती है। वैसे तो भिगे हुए
Read More

Please follow and like us:

|
कच्चे प्याज

कच्चे प्याज से मिलते हैं वो लाभ जो आप मँहगी दवाओं में खोजते रहते हो भोजन के रूप में या सलाद के रूप में खाया जाने वाला प्याज सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता। कुछ लोग तो सैंडविच, चटनी या चाट के रूप में भी प्याज का सेवन करते है लेकिन क्या आप जानते है
Read More

Please follow and like us:

|
तेजपत्ता खाओगे

तेजपत्ता खाओगे तो इतने लाभ पाओगे कि बस इसके गुण गाओगे भारतीय रसोई में खाने के लिए मसालों का इस्तेमाल आम किया जाता है। मसालों से ही हमारे खाने की पहचान होती है। यह खाने का स्वाद तो बढ़ाते ही हैं लेकिन सेहत के लिए भी बहुत गुणकारी होते हैं। इन्हीं में से एक है
Read More

Please follow and like us:

|
ब्रेस्ट में दर्द

ब्रेस्ट में दर्द हो जाता है इन कारणों से इनको अनदेखा मत करना महिलाओं को कई बार पर्सनल प्रॉब्लम का भी सामना करना पड़ता है। इन्हीं में से एक है ब्रैस्ट पेन यानि स्तनों का दर्द। स्तनों में होने वाले दर्द को मास्‍टालजिया भी कहा जाता है। हर लड़की को इस परेशानी से गुजरना पड़ता
Read More

Please follow and like us: