डेंगू और चिकनगुनिया का मौसम आ गया है ये उपाय प्लेटलेट्स कम नही होने देते हैं

डेंगू और चिकनगुनिया का मौसम आ गया है ये उपाय प्लेटलेट्स कम नही होने देते हैं

डेंगू और चिकनगुनिया
डेंगू और चिकनगुनिया

गर्मी के मौसम आ ही गया है और साथ ही मच्छर भी पैदा होने लगे हैं । मच्छरों के काटने से इस मौसम में बहुत सारे वायरल रोग फैलते हैं जिनमें से प्रमुख होते हैं डेंगू और चिकनगुनिया के बुखार । सामान्य तौर पर इन बुखारों को ठीक होने में दस से बीस दिन तक का समय लग जाता है लेकिन समस्या तब ज्यादा हो जाती है जब इन बुखारों में प्लेटलेट्स कम हो जाने लगती हैं । शरीर को रोग प्रतिरोधी शक्ति कम हो तो जल्दी ही इन बुखारों की चपेट में आ जाने की सम्भावना होने लगती है । आज हम आपको ऐसे कुछ उपाय बता रहे हैं जो आपके शरीर की रोग प्रतिरोधी शक्ति को बढ़ा कर आपको डेंगू और चिकनगुनिया के बुखारों से बचा सकते हैं ।

डेंगू और चिकनगुनिया से बचाव के लिए तुलसी के पत्ते और अजवायन :-

तुलसी को आयुर्वेद में एक बहुत ही विशेष औषधि माना गया है जो कई तरह से शरीर के ऊपर अपने लाभकारी प्रभाव दिखाती है । तुलसी के दस पत्ते और आधा चम्मच अजवायन के दाने लेकर उनको दो कप पानी में तब तक उबालें जब तक पानी आधा अर्थात एक कप शेष रह जाये । फिर इसको पीने लायक ठण्डा होने पर छान कर पी लीजिये । इस तरह यह प्रयोग रोज दो बार करने से शरीर की रोग प्रतिरोधी शक्ति मजबूत होती है ।

.
तुलसी के पत्तों का पाउडर अमेजन पर ऑर्डर करने के लिए नीचे दी गयी फोटो पर क्लिक करें ।

डेंगू और चिकनगुनिया से बचाव के लिए पपीते के पत्ते :-

सामान्यतः पपीते के पत्तों का प्रयोग प्लेटलेट्स कम हो जाने के बाद ही किया जाता है । लेकिन आधुनिक रिसर्च बताते हैं कि यदि सामान्य व्यक्ति पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर रोज दो बार पिये तो उसको डेंगू और चिकनगुनिया के बुखार होने का खतरा बहुत कम हो जाता है और यदि ये बुखार हो भी जाये तो प्लेटलेट्स ज्यादा कम नही होती हैं ।

.
पपीते के पत्तों का पाउडर अमेजन पर ऑर्डर करने के लिए नीचे दी गयी फोटो पर क्लिक करें ।

डेंगू और चिकनगुनिया से बचाव के लिए हल्दी का प्रयोग :-

हल्दी वाले दूध का प्रयोग और सेवन बहुत से लोग करते हैं और यह शरीर के लिये बहुत लाभकारी भी होता है । इससे शरीर में वायु के उपद्रव शान्त होते हैं । लेकिन यदि रोज सुबह और शाम के समय दूध की जगह गुनगुने गर्म पानी में हल्दी चूर्ण मिलाकर सेवन किया जाये तो यह शरीर की रोग प्रतिरोधी शक्ति को कई गुना बढ़ा देता है । हर उम्र में इसको मात्रा घटा बढ़ा कर पिया जा सकता है ।
.

संक्रामक रोगों से बचने के लिए शरीर की इम्यूनिटी बढ़ायें

.
डेंगू और चिकनगुनिया के बुखार से बचाव करने के लिए सरल प्रयोगों की जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजिये । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है और हमको भी आपके लिए और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है । इस लेख के समबन्ध में आपके कुछ सुझाव हों तो कृपया कमेण्ट के माध्यम से हमको जरूर सूचित करें ।
जटिल रोगों की सम्पूर्ण आयुर्वेद चिकित्सा के लिए आप प्रकाशित आयुर्वेद, मेरठ पर सम्पर्क कर सकते हो । whatsapp का नम्बर 8899047087 है ।
नियम व शर्तें :-
1 :- ध्यान रखें कि यह नम्बर नुस्खे पूछने के लिए नही है ।
2 :- दवा क्लीनिक पर दिखवाकर अथवा कोरियर द्वारा उप्लब्ध हो जाती हैं ।
3 :- कैश ऑन डिलिवरी की सुविधा उप्लब्ध नही है । दवा मँगवाने से पहले बैंक अकाउंट अथवा Paytm के माध्यम से पूर्ण भुगतान आवश्यक है ।
4 :- सम्पर्क का समय सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक । क्लीनिक पर मिलने से पहले असुविधा से बचने के लिए कृपया appointment जरूर ले लें |

.

बालों को बहुत खराब कर सकती हैं सोते समय की ये चार गलत आदतें

1225 Post Views: 1 Views:
Please follow and like us:
58