लौकी का रस lauki ka ras बचा सकता है बाईपास सर्जरी से

लौकी का रस lauki ka ras

लौकी का रस lauki ka ras बचा सकता है बाईपास सर्जरी से

.
कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना और ब्लॉकेज होने के बाद बाईपास सर्जरी करवाना, ये सब सुनने में ही बहुत डरा देता है किंतु फिर भी हर साल लाखो लोगों को बाईपास सर्जरी के लिये जाना पड़ता है । तस्वीर के पीछे की एक सच्चाई यह भी है कि ब्लॉकेज के हर रोगी को बाईपास सर्जरी की जरूरत नही होती है । अधिकतर केसों में साठ सत्तर प्रतिशत ब्लॉकेज वाले रोगी भी बाईपास सर्जरी के झंझट से बच सकते हैं और उसका जरिया होता है सुनने में साधारण सा लगने वाला यह लौकी का रस lauki ka ras का प्रयोग । इस पोस्ट में प्रकाशित आयुर्वेद, मेरठ के सौजन्य से जानिये क्या है इसको बनाने का तरीका और कैसे ये लाभ करता है ।
.

लौकी का रस lauki ka ras बनाने का तरीका :-

यह विशेष रस बनाने के लिये सबसे पहले जरूरी होती है लम्बी लौकी, ध्यान रखें कि लौकी के बीज पके हुये ना हों और लौकी कड़वी ना हो । इस लौकी को छिलके सहित साफ पानी से धो लें और फिर छिलके सहित ही कद्दुकस में घिस लें । कद्दुकस पर घिसने के बाद इस घिसी हुयी लौकी को ग्राइंडर द्वारा पीस लें । ग्राइंडर में पीसते समय लौकी के साथ तुलसी के पेड़ की सात पत्तियॉ और पोदीने की साथ पत्तियॉ भी मिला दें । चार काली मिर्च और एक ग्राम पिसा हुआ सेंधा नमक भी मिलाकर इस सम्पूर्ण मिश्रण को अच्छे से पीस लें । इसके बाद एक साफ सूति कपड़े में रखकर इस लौकी के पेस्ट को निचोड़ लें । लगभग 150 ग्राम रस आपको प्राप्त होगा । इस रस में बराबर मात्रा में सादा अथवा गुनगुना पानी मिला लें । बस कोलेस्ट्रॉल को घटाकर ब्लॉकेज को हटाने वाला यह कारगर लौकी का रस lauki ka ras तैयार है ।
.

लौकी का रस lauki ka ras के सेवन का तरीका :-

उपरोक्त विधी से तैयार यह लगभग 300 ग्राम रस एक समय की मात्रा है और एक दिन में ऐसी तीन मात्रा लेनी हैं । हर बार ताजा बनाकर ही सेवन करना है । फ्रीज का रखा हुआ नही पीना है और लौकी भी फ्रीज की रखी हुयी नही लेनी है । इस रस का सेवन काल सुबह खाली पेट और दोपहर और रात के भोजन से आधा घण्टा पहले होता है इस तरह एक दिन में कुल तीन बार सेवन करना है । इस रस के सेवन काल में शुरू के कुछ दिन शौच जाने की सँख्या बढ़ सकती है किंतु बहुत जल्दी ही यह समस्या ठीक हो जायेगी इस कारण से इस रस का सेवन रोकना नही है । लगातार दो महीने के सेवन करने से रोगी को लाभ होना शुरू हो जाता है इसका निदान रोगी कोलेस्ट्रॉल और ब्लॉकेज की जाँच करवाकर कर सकता है ।
.
विशेष नोट :-
ध्यान रखें कि कोलेस्ट्रॉल का घटना और ब्लॉकेज का खत्म होना एक धीरे चलनी वाली प्रक्रिया होती है अतः संयम से काम लें और लौकी का रस lauki ka ras का सेवन जारी रखें । साथ ही विभिन्न परहेजों का भी पालन करें जो आपके चिकित्सक द्वारा आपको बताये गये हैं । वैसे तो इस रस का किसी भी तरह की अन्य औषधि से कोई विरोध नही है । फिर भी अन्य औषधि और इस रस के सेवन में तीस-चालीस मिनट का अंतर रखने में कोई हर्ज नही है ।
.
प्रकाशित आयुर्वेद, मेरठ के सौजन्य से दी गयी यह जानकारी आपको अच्छी और लाभदायक लगी हो तो कृपया शेयर जरूर कीजियेगा ।
.
आँखों की कमजोरी और कम रोशनी से अब परेशान होने की जरूरत नही है । जानिये उपचार, यहॉ क्लिक करें

59738 Post Views: 1 Views:
Please follow and like us:
58

4 Comments



  1. //

    Thanks for information


  2. //

    Ihave suffering with thyroid since year 2000
    Iam take thyrnom 150 mg daily morning
    My B P 140/90
    Sugar fasting 123 last 5 days befor had 100 or under good control
    My daily morning walk routine
    Diet plan home made khana
    No cold drink
    No bakery product or junk
    Pl prescribe me desi iteam to control my sugar n BP and colestrol ldl level


Comments are closed.