वेरीकोज़ वेन के लिये सरल घरेलू उपचार…..

vericose vein

वेरीकोज़ वेन अर्थात पैरों की पिण्ड़लियों के पीछे नसो का गुच्छा बन जाना जो देखने में तो बहुत खराब लगता ही है साथ ही साथ रोगी को पैरों में खिंचाव और दर्द की भी अनूभूति देता है । बहुत से मित्र हमसे इस समस्या के स्थायी हल के लिये पूछते हैं । प्रकाशित आयुर्वेद के माध्यम से, इस पोस्ट में, हम आप सभी के लाभार्थ एक बहुत ही कारगर उपाय बता रहे हैं जो बहुत से लोगो ने प्रयोग किया है और लाभ बताया है ।
हाँलाकि यह रोग कोई विशेष समस्या तो नही पैदा करता है किंतु कई बार कुछ अन्य छोटी-मोटी समस्याओं का कारण बन सकता है । इस रोग के होने के मुख्य कारण निम्न पाये गये हैं :-
‌- शारीरिक श्रम की कमी
– अचानक से शरीर में होने वाले हार्मोन परिवर्तन
– उम्र का बढ़ना
– आनुवांशिक
ऑपरेशन द्वारा इसका समाधान किया जा सकता है किंतु जो मित्र ऑपरेशन नही करवाना चाहते उनके लिये प्रस्तुत है यह घरेलू प्रयोग :-
.
सामग्री :-
1 :- आधा कप एलोवेरा का गूदा
2 :- आधा कप कटी हुयी गाजर
3 :- 10 मि०ली० सेब का सिरका
.
विधी :-
मिक्सी में उपरोक्त तीनों सामानों को एकसाथ ड़ालकर अच्छे से पीसकर पेस्ट तैयार कर लें ।
.
प्रयोग विधी :-
वेरीकोज वेन वाले हिस्से पर इस पेस्ट को फैलाकर, सूती कपड़े से बहुत ही हल्की पट्टी बाँध दें । अब एक सीधी जगह पर पीठ के बल लेट जायें और पैरों को शरीर के तल से लगभग एक-सवा फुट ऊपर उठाकर किसी सहारे से टिका लें । इस अवस्था में लगभग तीस मिनट तक लेटे रहें । यह प्रयोग रोज तीन बार करना है ।
ध्यान रखें यह बहुत धीरे ठीक होने वाला रोग है अत: सयंम के साथ इस प्रयोग का पालन करें लगभग चार से छः सप्ताहों में प्रयोगकर्ताओं नें लाभ होने की बात कही है ।
.
प्रकाशित आयुर्वेद के माध्यम से की गयी यह पोस्ट आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें ।

89674 Post Views: 6 Views:
Please follow and like us:

1 Comment


  1. //

    Use venusmin 300 mg TDs in a day for 2 to 3 month in varicose vein

Comments are closed.